Types of Computer in Hindi

इस आर्टिकल में, आप Types of Computer के बारे में जान सकेंगे । अब तक विभिन्न प्रकार के computers का का आविष्कार हो चुका है। सभी जानते हैं कि कंप्यूटर एक मशीन है जिसका उपयोग सूचना या डेटा को स्टोर करने, इनफार्मेशन को शेयर करने, डेटा को manipulate करने आदि के लिए किया जाता है।

Types of Computer

Types-of-Computer

कंप्यूटर को मुख्यतयः निम्न तीन श्रेणियों के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है-

  1. प्रकारों (types) के आधार पर
  2. साइज़(Size) के आधार पर
  3. उद्देश्य(purpose) के आधार पर

नीचे दी गई टेबल में आप कंप्यूटर के प्रकारों का स्पष्ट वर्गीकरण देख सकते हैं:

टाइप के अनुसारसाइज़ के अनुसारउद्देश्य के अनुसार
ANALOGMICROGENERAL PURPOSE
DIGITALMINISPECIAL PURPOSE
HYBRIDMAINFRAME
SUPER
Types of Computer

Types of Computers – Based on Types

कम्प्यूटर टाइप के आधार पर तीन प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार हैं –

एनालॉग कंप्युटर (Analog Computer) – एनालॉग कंप्यूटर एनालॉग डेटा को प्रोसेस करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। एनालॉग डेटा लगातार बदलता रहता है। एनालॉग कंप्यूटर का उपयोग वहाँ किया जाता है जहां हमें हमेशा सटीक वैल्यू की आवश्यकता नहीं होती है जैसे कि गति, तापमान आदि ।
एनालॉग कंप्यूटर डेटा को संख्याओं और कोड में परिवर्तित किए बिना ही डिवाइस से डेटा को स्वीकार करते हैं। इस तरह के कंप्यूटर ज्यादातर वैज्ञानिक और औद्योगिक प्रयोगों के लिए उपयोग किए जाते हैं। एनालॉग कंप्यूटर के उदाहरणों में थर्मामीटर, ऑपरेशनल एम्पलीफायर्स, इलेक्ट्रिक इंटीग्रेटर्स आदि शामिल हैं।

डिजिटल कम्प्यूटर (Digital computer) – डिजिटल कंप्यूटर उच्च गति पर कैलकुलेशन और लॉजिकल ऑपरेशन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह केवल बाइनरी भाषा (0 और 1) के रूप में इनपुट किए गए डेटा को प्रोसेस करता है और अपनी मेमोरी में स्टोर किए गए प्रोग्राम के साथ इसे प्रोसेस करने के पश्चात output को देता है। लैपटॉप, डेस्कटॉप, मोबाईल फोन जैसे सभी आधुनिक कंप्यूटर, जो हम घर या कार्यालय में उपयोग करते हैं, वे डिजिटल कंप्यूटर हैं।

हाईब्रिड कम्प्यूटर (Hybrid Computer)– जिन कंप्यूटर में एनालॉग और डिजिटल कंप्यूटर दोनों की विशेषताएं होती हैं, वे Hybrid कम्प्यूटर कहलाते हैं । यह एक एनालॉग कंप्यूटर के समान फास्ट होते हैं व इनमें डिजिटल कंप्यूटर के समान मेमोरी होती है। यह एनालॉग signals को एक्सेप्ट करके, प्रोसेसिंग से पहले उन्हें डिजिटल रूप में परिवर्तित करता है।

Types of Computer – On the basis of size

नीचे कार्यों के साथ-साथ उनके आकार के आधार पर चार प्रकार के Computers का वर्णन किया गया है:

• माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer) – माइक्रो कम्प्यूटर अन्य कम्प्यूटर की तुलना में सस्ते व छोटे होते हैं जिसमें एक ही माइक्रोप्रोसेसर और एक सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू) होता है। इस तरह के कंप्यूटर एक ही सर्किट बोर्ड पर बनाए जाते हैं। अब इनको पर्सनल कम्प्यूटर या PC भी कहा जाता है। उदाहरणों में डेस्कटॉप, लैपटॉप आदि आते हैं।

• मिनी कंप्यूटर (Mini Computer) – मिनी कंप्यूटर 1960 के दशक के मध्य में विकसित हुए थे। यह एक मिडसाइज मल्टीप्रोसेसिंग कंप्यूटर है। इसमें दो या दो से अधिक प्रोसेसर होते हैं और एक समय में 4 से 200 यूजर को सपोर्ट कर सकते हैं। एक मिनी कंप्यूटर को मेनफ्रेम और माइक्रो कंप्यूटर के मध्य का कम्प्यूटर कहा जा सकता है क्योंकि यह मेनफ्रेम से छोटा होता है लेकिन माइक्रो कंप्यूटर से बड़ा होता है। यह mainframe कम्प्यूटर की अपेक्षा सस्ते होते हैं।

• मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer) – बड़े संगठनों द्वारा बल्क डेटा को प्रोसेस करने के लिए उपयोग किए जाने वाले कंप्यूटर मेनफ्रेम कंप्यूटर कहलाते हैं। यह computers एक साथ हजारों यूजर और प्रोग्राम्स को सपोर्ट कर सकते हैं अर्थात वे एक समय में विभिन्न प्रकार की प्रोसेसिंग कर सकते हैं। मेनफ्रेम कंप्यूटर की इन विशेषताओं के कारण उन्हें बैंकिंग और दूरसंचार जैसे क्षेत्रों प्रयोग किया जाता हैं, क्योंकि उन्हे बहुत बड़ी मात्रा में डेटा को मैनेज व प्रोसेस करना होता है।

• सुपर कम्प्यूटर (Super Computer) – सुपर कंप्यूटर साइज़ में बहुत बड़े और सबसे तेज़ कंप्यूटर होते हैं। यह कम्प्यूटर भारी मात्रा में डेटा को प्रोसेस कर सकते हैं। एक सुपर कंप्यूटर एक सेकंड में खरबों instructions को प्रोसेस कर सकता है। एक Super computer से हजारों प्रोसेसर जुड़े होते हैं। सुपर कंप्यूटर का उपयोग विशेष रूप से वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग ससंस्थानों में किया जाता है।

Types of Computer – On the basis of Purpose

कम्प्यूटर Purpose के आधार पर दो प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार हैं –

General purpose computer

इस प्रकार के कम्प्यूटर निम्न प्रकार के कार्य करने में सक्षम होते हैं-

  • इनपुट/आउटपुट
  • कैलकुलेशन या गणना
  • डेटा की बचत करना
  • सामान्य कार्य

general purpose computers में कैलकुलेटर, लैपटॉप, डेस्कटॉप कंप्यूटर, मोबाइल फोन आदि शामिल हैं, यह लोगों की उनके आवश्यक कार्यों में मदद करते हैं।

Special Purpose Computer

जब किसी कंप्यूटर कोई विशेष कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है, तो इस प्रकार के कंप्यूटर को विशेष प्रयोजन कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है। यह निम्न प्रकार के हो सकते है:-

  • थर्मामीटर
  • जनरेटर
  • जलवायु परिवर्तन की analysis करने के लिए प्रयोग किए जाने वाले उपकरण
  • आईटी कंपनियों के लिए बड़े कंप्यूटर
  • मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स में इस्तेमाल की जाने वाली मशीनें आदि
  • विशेष-उद्देश्य वाले कंप्यूटर विभिन्न संगठनों के लिए महत्वपूर्ण हैं व इस तरह से बनाए जाते हैं जिससे काम आसानी से और कुशलतापूर्वक हो जाता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top