Facts about National Anthem of India

भारत के राष्ट्रगान(National Anthem of India) के बारे में प्रमुख तथ्य इस प्रकार हैं-

भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता रबीन्द्र नाथ टैगोर ने हमारे राष्ट्रगान को मूल रूप से 11 दिसंबर 1911 को बंगाली भाषा में लिखा था।

इसके मूल गीत, ‘भरोतो भाग्यविधाता’ में पांच छंद हैं, लेकिन केवल पहले छंद को ही राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया है।

जिसके हिन्दी अनुवाद को भारत की सविधान सभा ने 24 जनवरी, 1950 को भारत के “राष्ट्रगान” के रूप मे अपनाया था।

भारत के राष्ट्रगान(National Anthem of India) का शीर्षक “जन गण मन” है।

भारत का राष्ट्रगान ‘विविधता में एकता’ की भावना को दर्शाता है, जोकि हमारी सांस्कृतिक विरासत के मूल में निहित है।

यह गीत पहली बार 27 दिसंबर 1911 को कोलकाता में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के वार्षिक सत्र में सार्वजनिक रूप से गाया गया था।

National Anthem of India
National Anthem of India

National Anthem of India | भारत का राष्ट्रगान

जन-गण-मन अधिनायक जय हे, भारत भाग्य विधाता!
पंजाब-सिंधु-गुजरात-मराठा, द्राविड़-उत्कल-बंग
विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा, उच्छल जलधि तरंग
तव[i] शुभ नामे जागे, तव शुभाशीष मागे
गाहे तव जय गाथा।
जन-गण-मंगलदायक जय हे, भारत भाग्य विधाता!
जय हे! जय हे! जय हे! जय जय जय जय हे!

टैगोर जी ने इसको ‘द मॉर्निंग सॉन्ग ऑफ इंडिया’ के रूप में अंग्रेजी में अनुवाद किया था।

11 सितंबर 1942 को हैम्बर्ग रेडियो सिम्फनी ऑर्केस्ट्रा द्वारा पहली बार “जन गण मन” बजाया गया था।

भारत का पूरा राष्ट्रगान 52 सेकंड में गया जाना चाहिए। इसका छोटा वर्ज़न 20 सेकंड में गाया जा सकता है।

राष्ट्रगान(National Anthem of India) को गाने में कानून द्वारा बताया गया समय 52 सेकंड का है, न कि 54 सेकंड का।

भारत के राष्ट्रगान को राग अल्हैया बिलावल में तैयार किया गया था।

भारत का राष्ट्रगान बनने से पहले, “जन गण मन” को 1945 की फिल्म हमराही में सम्मिलित किया गया था।

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51 ए (A) के अनुसार :

“भारत के प्रत्येक नागरिक का यह कर्तव्य है कि वह संविधान का पालन करे और राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान का सम्मान करे”।

Currency symbol of IndiaNational Bird of IndiaNational Emblem of IndiaNational River of India
National flag of IndiaNational Song of indiaConstitution of IndiaCalander of India

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top